मासिक धर्म के कारण व कुछ उपचार. ( Menstrual Problems in Hindi )

menstrual problems in hindi,

Menstrual Problems

or

Periods Problem in Hindi

मासिक धर्म महिलाओं या लड़कियों के लिए उनके जीवन की सबसे महत्वपूर्ण कड़ी माना जाता है लेकिन इन मासिक चक्र के दौरान ऐसी बहुत सारी परेशानिया menstrual problems हो जाती है जिसके कारण महिलाओं या लड़कियों का मासिक धर्म के साथ गुजरने वाला समय दर्द भरा हो जाता है यह परेशानिया उनके द्वात्र की गयी कुछ गलतियों या नियमित खान पान न हो पाने की बजाहे से ये परेशानिया उनके सामने आती है

इन दिनों में कई महिलाओं या लड़कियों को मासिक चक्र समय से पहले आना या समय पर न आना या मासिक चक्र के समय असहनीय दर्द का जैसी समस्याओं menstrual problems का सामना करना पड़ता है जिसके कारण इनका जीवन दर्द से भरा वा चिडचिडा सा हो जाता है

तो आइये आज हम आपको कुछ ऐसे घरेलु नुस्खे और कुछ सावधानियों को अपनाते हुए इन परेशानियों से पूर्ण रूप से छुटकार पा सकते है

menstrual problems

What Causes Menstrual Cramps

or

Menstrual Cramps

यदि किसी महिला या लड़की को मासिक चक्र के दौरान पेट में असहनीय दर्द या एंठन के साथ पेट में दर्द होता है तो उसकी इस स्थिति के लिए ज़िम्मेदार कारकों में खट्टा, नमकीन, गर्म, तीखे, भारी, और किण्वित भोजन शामिल हो सकते है; फैटी और घरेलू पशुओं का मांस; मादक पेय; खट्टी डकार;खाना का सही से पाचन न हो पाना भी इसके कारण हो सकते है

इसके अलावा विवाहित महिलाओं के लिए अत्यधिक सक्रिय कारण जो इनके मासिक धर्म Menstrual Problems को परेशानियों से भर देते है जैसे गर्भपात, अत्यधिक यौन क्रियाकलाप, शारीरिक वृद्धि (घूमना, सवारी, भारोत्तोलन, आदि), दुर्बलता, आघात और दिन में सोना,भी इसमें शामिल है इसके साथ ही मनोवैज्ञानिक स्थितियां का बिगड़ जाना जैसे कि अधिक दु:ख, अधिक क्रोध, वासना और चिंता, मासिक धर्म संबंधी समस्याओं को बढ़ने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाने के लिए सहायक होते है

menstrual problems

Menstrual Cycle Symptoms

or

Menstruation Symptoms

or

Signs of Period

लड़कियों में शुरूआती मासिक चक्र के दौरान कई बड़े परिवतन देखने को मिलते है आईये जानते है लड़कियों में मासिक धर्म के दौरान कौन से परिवर्तन आते है

High Body Temperature from menstrual :

मासिक चक्र के समय लड़कियों के शरीर का तापमान काफी बड जाता है क्योकि लड़कियों के अंडाणुओं के निकलने पर प्रोजेस्टेरोन उत्पन्न होता है जिसके कारण मासिक चक्र के समय लडकियों या महिलाओं के शरीर का तापमान बड़ा हुआ रहता है

Stomach Pain from menstrual :

मासिक चक्र के समय में लड़कियों के पेट में दर्द एक आम बात होती है लेकिन यह दर्द कभी कम मात्र में होता है तो कभी बहुत अधिक तेजी के साथ होता है यह दर्द कुछ घंटों तक ही महसूस किया जाता है

Lower Back Pain from menstrual :

लाकियों व महिलाओं में मासिक धर्म के दौरान पेट दर्द के साथ कमर के निचले हिस्से में दर्द या जलन भी होती है यह जलन कुछ ही समय के लिए ही महसूस की जाती है

Thick White Discharge from menstrual :

मासिक धर्म Menstrual Problems के समय महिलाओं व लड़कियों में एक सफ़ेद रंग का तरल पदार्थ सरवाइकल ग्रीवा से बाहर निकलता है जिसके कारण ग्रीवा मोटी व सफ़ेद रंग की हो जाती है यह सफ़ेद रंग का तरल पदार्थ तब निकलता है जब शरीर में अंडाणुओं की संख्या अधिक होती है

Uterine Changes from menstrual :

इस के साथ साथ ही लड़कियों में मासिक चक्र के दौरान गर्भाशय ग्रीवा में एक बड़ा वदलाव देखने को मिलता है कमर में चौड़ापन होने लगता है और निपल्स में विकास होता है

Read More :- Turmeric Benefits and Side Effects – How To Use Turmeric

menstrual problems

Ayurvedic Medicine For Irregular Periods

or

Medicine For Menstruation

आयुर्वेद के अनुसार, खराब आहार और अक्षम पाचन इन विकारों के मुख्य कारक हैं। अनुचित रूप से पचा भोजन से शरीर में विषाक्त पदार्थों का उत्पादन हों जाता है। ये विषाक्त पदार्थ खून से गहरे ऊतकों से लेकर चैनलों तक फैलते हैं. जहां वे रुकावटें और स्थिरता का कारण बनते हैं।

इन स्थितियों में वात दोहा (वायु) और रक्ता धातु (रक्त) की उत्तेजना पैदा हों जाती है। बढ़ी हुई वात्र राज (मासिक धर्म रक्त) ले जाने वाले चैनलों में ख़राब रक्त लाता है, जिससे मासिक धर्म के रक्त प्रवाह में वृद्धि होती है।

आयुर्वेद मासिक धर्म Menstrual Problems संबंधी समस्याओं का इलाज करने के लिए विभिन्न प्रकार के उपचार की सिफारिश करता है. इसमें विकार की प्रकृति के अनुसार पौष्टिक और टोनिंग जड़ी बूटियां और साथ ही पुनर्योजी उपचार शामिल हैं।

मालिश और ध्यान और योग का समावेश भी समस्याओं के स्थायी उन्मूलन के लिए फायदेमंद हो सकता है। मासिक धर्म की समस्याओं को हल करना महत्वपूर्ण है क्योंकि एक महिला इस प्रक्रिया के माध्यम से उसके अपशिष्टों और विषाक्त पदार्थों के एक बड़े हिस्से को उजागर करती है। यदि ये विषाक्त पदार्थ शरीर में रहते हैं, तो वे शरीर के भीतर स्थिरता और रुकावट पैदा करते हैं।

menstrual problems

Menstrual Pain

or

Menstrual Pain Relief

उपर्युक्त सभी कारक कारकों की कोशिश करें और उनसे बचें।

किसी भी प्रकार की शारीरिक और मानसिक तनाव को कड़ाई से बचा जाना चाहिए।

माहवारी के दौरान, सोते समय पैरों और पैरों को ऊंचा रखने के लिए बेड की पैर बढ़ाएं।

चाय, कॉफी और बर्फीले ठंडे पेय से बचें। इसके बजाय, कमरे के तापमान पर पेय पिए और इसमें ठंडा गुण होते हैं, जैसे पेपरमिंट चाय

शीतलक बारिश और चंदन और टकसाल सार के साथ स्नान सहायक होता हैं.

menstrual problems

आइये जानते कुछ और रोचक जड़ीबूटियों के बारे में :-

Dalchini Ke Fayde or Nuksan :- Benefits of Cinnamon for Heart in Hindi

Amarbel ke Fayde :- Amarbel Benefits For Stop Hair Loss,

Health Benefits of Tulsi :- Tulsi Benefits For Kidney Stone

Benifits For Ashwagandha And Side Effects :- Ashwagandha Benefits For Bectirial Infection,