करेले का जूस – है तो कड़वा लेकिन गुण शहद से भी बढ़कर

karele ka juice ke fayde –

दोस्तों आपने अपने जीवन में कभी न कभी करेले का स्वाद चखा होगा.. करेला का स्वाद बेसक कड़वा होता है लेकिन karele ka juice हमारे शरीर के लिए ये उतना ही फायदेमंद होता है. करेले का औषद्यि के रूप कई दवाइयों में प्रयोग किया जाता है.

करेले के जूस और करेले (Bitter Gourd) के औषधिय गुणों को भारतीय होम्योपैथिक में भी सराहा गया है इसीलिए “Momordica charantia” होम्योपैथिक औषधि का मूल तत्व करेला ही है।

करेले के जूस में विटामिन और एंटी-ऑक्सीडेंट होते है जो हमारे शरीर के लिए लाभदायक है इसलिए इसका सेवन हमें रोज़ करना चाहिए. रोज़ाना एक गिलास करेले का जूस पीने से कई बीमारिया दूर हो जाती है.

Karela Juice benefits and side effects –

करेले की प्रकृति या तासीर गर्म और खुश्क होती है। करेला दो किस्म का होता है एक बड़ा करेला और छोटा करेला। बड़े करेले की अपेक्षा छोटा करेला अधिक गुणकारी होता है। कच्चा, हरा ,छोटे साइज़ का करेला अधिक गुणकारी होता है इसलिए जूस या सब्जी बनाने में इसी का उपयोग करना चाहिए। आज हम आपको विस्तार से बताएँगे की करेले का जूस पीने के क्या फायदे होते है और Karele ke juice ke nuksan क्या है. तो सबसे पहले आइये जानते है karele ke fayde hindi me.

 

karela juice benefits and side effects, karele ke fayde hindi me, karela juice health benefits, how much karela juice to drink daily, benefits of drinking karela juice daily, benefits of bitter gourd juice in the morning, eating bitter gourd at night, karela juice for weight loss in hindi, karele ka juice for skin, bitter gourd juice for skin, bitter gourd juice for diabetics, bitter gourd benefits for high blood pressure,

karela juice health benefits / Health benefits of Karela(Bitter Gourd)-

कई लोगों को लगता है कि करेला एक सब्जी है, पर असल में यह एक फल है। इसके नाम के साथ कड़वा शब्द सम्मिलित है क्योंकि इसका स्वाद कड़वा होता है लेकिन करेले के शारीर को इतने फायदे होते है की आप हैरान रह जायेंगे.

bitter gourd juice for diabetes:

Karele ke juice का सेवन मधुमेह(Diabetes) रोगियों के लिए बहुत लाभदायक होता है इसके आधे कप के सेवन से शारीर में इन्सुलिन की मात्र बढ़ जाती है जिससे शारीर में शुगर लेवल कंट्रोल में रहता है. जिन लोगो को diabetes है उन्हें नियमित रूप से अपने खाने में करेले का इस्तेमाल करना चाहिए और रोजाना करेले का उइस पीना चाहिए.

bitter gourd benefits for high blood pressure:

करेला दिल के लिए कई मायनों में काफी फायदेमंद होता है। करेले में जलनरोधी गुण भी मौजूद होते हैं.करेले के बीज में ये गुण आसानी से पाए जाते हैं। करेले के बीज आपको दिल की समस्याओं से भी सुरक्षित रखने में भी मदद करते हैं.

करेले के जूस में कुछ ऐसे गुण होते है जो हमारे रक्त को शुद्ध करते है और जिससे ब्लड प्रेशर भी कंट्रोल में रहता है. यह अर्टरी वॉल पर इकठ्ठा होने वाले खराब कोलेस्ट्रोल को कम करता है, जिससे हॉर्ट अटैक का खतरा काफी कम हो जाता है। साथ ही यह ब्लड सूगर लेवल को भी कम करता है, जिससे दिल तंदुरुस्त बना रहता है.

karele ka juice for skin/bitter gourd juice for skin:

करेले के सेवन से चेहरे के दाग-धब्बों, मुहांसों और स्किन इंफेक्शन से भी छुटकारा मिलता है। हर दिन खाली पेट में करेले के जूस को नींबू के साथ मिलाकर छह महीने तक पीएं। या फिर आप इसे तब तक जारी रखें जब तक कि आपको फायदा न पहुंचने लगे।

करेले में फाइबर के गुण पाए जाते हैं, जो पाचन तंत्र को मजबूत बनाता हैं। साथ ही यह अपच और कब्ज की शिकायत को दूर करता है।

karele ka juice for weight loss/bitter gourd juice for weight loss –

वजन घटाने में मदद करता है: करीला के रस को खाने या पीने से यकृत को शरीर में वसा को चयापचय करने के लिए आवश्यक पित्त एसिड को छिपाने के लिए उत्तेजित होता है। इसके अलावा, कूड़े की एक 100 ग्राम सेवा में सिर्फ 17 कैलोरी होते हैं जिससे यह फिटनेस उत्साही लोगों के लिए एक बढ़िया विकल्प बनता है।

bitter gourd benefits for digestion

करेला का रस पाचन बढ़ाता है यह एंजाइमों का उत्पादन बढ़ाता है जो पाचन प्रक्रिया को सहायता करता है। कब्ज करेले में फाइबर के गुण पाए जाते हैं, जो पाचन तंत्र को मजबूत बनाता हैं। साथ ही यह अपच और कब्ज की शिकायत को दूर करता है.

bitter gourd benefits for immune system

करेले का जूस हमारे शरीर में रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढाता है जिससे हम बीमारियों से बाख सकते है. करेला विटामिन सी का एक बहुत ही समृद्ध स्रोत है, जो प्रतिरक्षा को बढ़ावा देने में मदद करता है इसमें शक्तिशाली एंटीवायरल संपत्ति भी है, जो रोग प्रतिरोधक प्रणाली को उत्तेजित करती है और पाचन में भी सहायक होती है.

दोस्तों जैसा की आपने ऊपर करेले के कुछ फायदे पढ़े लेकिन इसके karele ke juice ke nuksan भी होते है. आम तौर पर इसके फायदे जानकर लोग इससे इस्तेमाल करना शुरू कर देते है लेकिन आइये जानते है करेले के नुकसान(karela juice side effects).

 how to make karela juice video, करेला खाने के नुकसान / करेले के नुकसान, karele ke juice ke nuksan, karela juice side effects, bitter gourd juice side effects, disadvantages of drinking karela juice, side effects of drinking bitter gourd juice daily,

bitter gourd juice side effects/disadvantages of drinking karela juice:

दोस्तों प्रकृति का एक नियम है जिसमे बताया गया है की अधिक मात्रा हर चीज़ की बुरी होती है.गर्भावस्था के दौरान इसका अधिक सेवन गर्भपात का कारण हो सकता है कई बार यह गर्भावस्था के दौरान पीरियड्स की स्थिति भी पैदा कर सकता है। करेले में एक ऐसा तत्व होता है जिसे एंटी लैक्टोलन कहते हैं यह तत्व गर्भावस्था के दौरान दूध बनने की प्रक्रिया में बाधा डालते हैं. करेले के रस में मोमोकैरिन नामक तत्व होता है जो पीर‌ियड्स का फ्लो बढ़ा देता है.

जो महिलाये गर्भधारण की चाह रखती है उनके लिए इसका सेवन नुकसानदायक हो सकता है. फर्टिलिटी से संबंधित दवाओं का असर करेले में मौजूद तत्व खत्म कर देते हैं। इसमें मौजूद एमएपी 30 नामक तत्व का कुत्तों पर किए गए परीक्षण में यह माना गया है लेकिन इस पर अभी काफी अध्ययन की आवश्यकता है।

side effects of drinking bitter gourd juice daily

अत्याधिक मात्रा में करेले के जूस का सेवन लिवर व किडनी के मरीजों के लिए नुकसानदायक हो सकता है. यह लिवर में एन्जाइम्स का निर्माण बढ़ा देता है जिससे लिवर प्रभावित होता है. हालाँकि अगर इसका सेवन एक नियमित तरीके से किया जाये तो ये बहुत फायदेमंद है.

अब आपके मन में सवाल उठा होगा की कितनी मात्रा में करेले का जूस पीना चाहिए – how much karela juice to drink daily?

दोस्तों करेले का सही मात्रा में सेवन आपके शरीर की कई चीजों पर निर्भर करता है जैसे आपकी उम्र, हाइट, आपकी दिनचर्या. इसके लिए किसी सही डॉक्टर या आयुर्वेद जानकार से सलाह लेनी जरुरी है.

लेकिन ऐसा माना जाता है की प्रतिदिन 2 चम्मच करेले का रस पीने से लीवर साफ़ होता है और रक्त में से अशुद्धियाँ भी दूर हो जाती हैं.

best time to drink bitter gourd juice:

भूख को रोकने के लिए एक खाली पेट पर सुबह पीने का रस पाया गया है।

 करेला जूस बनाने की विधि, करेले का जूस कैसे बनाये, करेले का जूस बनाने की विधि, karela ka juice kaise banta hai, karele ka juice banane ka tarika, how to make karela juice for weight loss, bitter gourd recipe for weight loss, bitter gourd slimming, karela ka juice recipes in hindi,

दोस्तों अब बात करते है की करेले का जूस कैसे बनता है और करेला का जूस बनाने की विधि क्या है-

how to make karela juice for weight loss/bitter gourd recipe for weight loss/ bitter gourd slimming

करेला मुख्य रूप से दो प्रकार का होता है – हर करेला और पीला करेला. हरा करेला पके हुए सफेद पीले रंग के करेले की अपेक्षा ज्यादा लाभदायक है इसलिए हमेशा हरे रंग के करेले का ही उपयोग करना चाहिए. करेले के बेहतरीन स्वास्थ्य वर्धक गुणों के अलावा एक और खास बात यह है की इसको सुखाकर रखने पर भी इसके औषधिय गुण नष्ट नहीं होते हैं.

karela ka juice recipes in hindi-

सबसे पहले हरा करेला लेना है न की पीला. इसके बाद इसे अच्छी तरह से धो ले.

अब करेले के छोटे छोटे टुकड़े करे ले और इसे मिक्स्सी में दाल दे.

अब अपनी जरुरत के अनुसार इसमें पानी डाल ले और मिक्स्सी में पीस ले.

इसके बाद इस मिक्सचर को छान ले और इसमें एक थोडा सा नमक डाल ले.

दोस्तों ये बनाना बहुत ही आसान है और आप इसे रोज सुबह खली पेट पी सकते है. आपको ये ध्यान रखना है की इसे पीने के बाद खाना खाने में कम से कम आधे घंटे का गैप रखे.

उम्मीद है दोस्तों आपको हमारी ये जानकारी अच्छी लगी होगी. अगर आपको जानकारी अच्छी लगी तो और अधिक जानकारी लेना चाहते है तो नीचे दिए गए लिक से Healthy India Youtube Channel Subscribe करे.

Click Here to Subscribe – Healthy India

Sources:
1. Momordica charantia L. USDA, NRCS. 2007. The PLANTS Database National Plant Data Center, Baton Rouge, LA 70874-4490 USA.
2. Chevallier A. Encyclopedia of Medicinal Plants . New York, NY: DK Publishing; 1996:234.
3. Cunnick J, et al. Bitter Melon ( Momordica charantia ). J Nat Med . 1993;4:16-21.
4. Duke J. CRC Handbook of Medicinal Herbs . Boca Raton, FL: CRC Press Inc; 1989:315-316.
5. Khanna P, Jain SC, Panagariya A, Dixit VP. Hypoglycemic activity of polypeptide-p from a plant source. J Nat Prod . 1981;44(6):648-655.
6. Raman A, et al. Anti-diabetic properties and phytochemistry of Momordica charantia L. (Cucurbitaceae). Phytomedicine . 1996;2:349-362.