बारिश के मौसम खाई,ये चीजे तो जानलेवा बीमारियों का सामना करना पड़ सकता हैं!

क्या मानसून की बारिश आपको गरम चाय और पकड़ो की महक के और खिचती हैं ?तो रुके ,क्युकी ये बारिश आपको तेज गर्मी से राहततो देती हैं .लेकिन इसके साथ ही यह एक संक्रमण की श्रृंखला और सामयिक फ्लू लाती है.

सुंदर मौसम का सबसे अधिक मजा लेने के लिए इन बीमारियों के खिलाफ खुद को मजबूत करना महत्वपूर्ण है.
तो इससे पहले कि आप किसी आरामदायक, अस्पष्ट कैफे पर जाने से पहले जो आपको चाय और स्नैक्स परोसते हैं, इन खाद्य पदार्थों की सूची को पढ़ें जो आपको बरसात के मौसम में नहीं खाने चाहिए.

बारिश के मौसम में क्या ना खाये !

  • पत्तीदार सब्जिया

यह सहज ज्ञान युक्त लेख असमंझस प्रतीत हो सकता है. क्योंकि हमारे जीवन में , हमें पत्तेदार सब्जियां खाने के महत्व के बारे में निर्देश दिए गए हैं. हालांकि, मानसून में,इसे सबसे जदा परहेज करना चाहिए.

क्युकी इनमे मौजूद झींगा और नमी होने से,आपको रोगाणुओं की अत्यधिक मार झेलनी पद सकती हैं.
इस मौसम में पालक, गोभी और फूलगोभी जैसी सब्जियों को नहीं खाना चाहिए.
इसके बजाय, कडवी सब्जियों को जैसे- कड़वी, घी, टोरी या टिंडा को खाना चाहिए.और खाने से पहले ये सुनिश्चित करें. कि सभी सब्जियां अच्छी तरह से धोई और अच्छी तरह पकाई गई हों.

  • सड़क के किनारे विक्रेताओं से ताज़ा जूस और फल लेने से बचे

मॉनसून के समय तक आने वाले किसी भी ताजे लम्बे खाद्य पदार्थ से बचा जाना चाहिए.क्युकी ये सड़क के किनारे विक्रेताओं के पास पहले से ही फल काटा जाता है, जो दूषित हवा के संपर्क में आ सकता हैं.

अगर घर पर ताजे फलों के रस निकले.तो इसे तुरंत सेवन करें.    त्वरित सुझाव: घर पर भी, सुनिश्चित करें कि आप कटा हुआ फल को बहुत लंबे समय तक नहीं छोड़े.
हवा में किसी भी चीज का लंबे समय तक रहने से संपर्क संक्रमण हो सकता है.तो इसलिए इसे ताज़ा काटे और तुरंत सेवन करें.

  • समुद्री भोजन

मानसून मछली और झींगे के लिए प्रजनन का मौसम है, इसलिए मानसून में इसका सेवन करने से बचा जाना चाहिए.

गैर-शाकाहारी भोजनखाने के लिए अपनी तरस को तृप्त करने के लिए चिकन और मटन से पूरा कर सकते हैं. हालांकि, अगर समुद्र के भोजन को खाना जरूरी है, तो सुनिश्चित करें .कि आप इसकी केवल तजा विविधता का उपभोग करे.और इसे अच्छी तरह से पकाने के लिए अतिरिक्त देखभाल करे.

  • तला हुआ खाना

हां, आपने उसे सही पढ़ा है. फ्राइड फूड खाद्य पदार्थों में से एक है. जिसे आपको इस बरसात के मौसम से बिल्कुल भी नही खाना चाहिए और विज्ञान हमे इस पर समर्थन करता है.

अत्यधिक नम मॉनसून मौसम हमारी पाचन प्रक्रिया को धीमा कर देता है. हालांकि कि पकोडा, समोसे और कचोडी से पेट में परेशान होने की वजह से गैस्ट्रोनोकिकल जटिलताएं पैदा हों सकती हैं.  अतिरिक्त नमकीन खाना भी पानी के प्रतिधारण का कारण बनता है. फोर्टिस हॉस्पिटल के शाहीमार बाग, नई दिल्ली में डॉ। सिमरन सैनी ने सिफारिश की, “मैं हर किसी को सड़क के भोजन से दूर रहने की सलाह देता हूं, खासकर गोला गांव जैसी चीजें जहां पानी का इस्तेमाल होता है. सीजन में स्वयं बहुत से जीवाणु और कीड़े आते हैं, जिससे गंभीर संक्रमण हो सकता है। ”

  • गैस पेय

गैस पेय हमारे शरीर में खनिजों को कम करते हैं, जो बदले में किण्वक गतिविधि को कम करता है. यह पहले से ही कमजोर पाचन तंत्र के साथ अत्यधिक अवांछनीय करता है.

पानी की एक बोतल या नींबू पानी को हाथ में रखो या अदरक की गर्म पेय लें.  आपका पाचन तंत्र आपको इसके लिए धन्यवाद देगा .इसी तरह, डॉ। सैनी भी कहते हैं, “यह सीजन हमारी पाचन तंत्र को संवेदनशील बनाता है. मैं हर किसी को डेयरी उत्पादों पर ना जाने की सलाह दूंगा. क्योंकि ये पाचन पर एक टोल ले सकते हैं.
इसके बजाय, निंबू पाणि या शिकिंजवी के लिए पिए.तथा बहुत उबला हुआ, साफ पानी का सेवन करना चाहिए.

क्लिक करे और जाने ऐसे ही असरदार नुस्खो के बारे में:-

लौंग के फायदे, लौंग से पायें 10 बिमारियों से छुटकारा 

Cluster Beans-ये फली की सब्जी कैसे बनाएगी हड्डियों को मजबूत 

कैसे अपने मोटापे और चर्बी को कम कर सकते है केवल 1 महीने में 

Diabetes यानि की मधुमेह को कैसे कम करे कुछ अचूक उपायों से

Next post